सम्‍पूर्ण सामान्‍य ज्ञान (प्रतियोगी परीक्षाओं के लिये ) क्लिक करें

विश्‍व उपभोक्‍ता अधिकार दिवस (Vish‍va Upabhok‍ta Adhikar Divas)

सर्वप्रथम 24 दिसम्बर को राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस मनाया जाता था लेकिन वर्ष 1968 में इसी दिन उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम विधेयक लाया गया था इसलिए भारत सरकार ने 24 दिसम्बर को राष्‍ट्रीय उपभोक्‍ता दिवस घोषित किया है, क्योंकि राष्‍ट्रपति ने इसी दिन उपभोक्‍ता संरक्षण अधिनियम, 1986 को स्वीकार किया था। लेकिन 15 मार्च को रल्प नाडेर द्धारा उपभोक्ता आन्दोलन का प्रारंभ अमेरिका में किया गया नाडेर के आन्दोलन द्धारा 15 मार्च 1962 को अमेरिकी संसद में राष्ट्रपति जॉन एफ कैनेडी द्धारा उपभोक्ता संरक्षण विधेयक अनुमोदित किया था। इसी कारण 15 मार्च को अंतरराष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

भारत में विश्व उपभोक्ता दिवस

भारत में विश्‍व उपभोक्‍ता दिवस को पहली बार वर्ष 2000 से प्रतिवर्ष मनाया जाने लगा उपभोक्ता आन्दोलन वर्ष 1966 में जेआरडी टाटा के द्धारा कुछ व्यापारियों के सहयोग से उपभोक्ता संरक्षण के तहत फेयर प्रैक्टिस एसोसिएशन  की स्थापना मुंबई के साथ साथ कुछ प्रमुख शहरों में की गईं। इसी प्रकार उपभोक्ता आन्दोलन बढ़ता रहा। 9 दिसम्बर 1986 को प्रधानमंत्री राजीव गांधी द्धारा उपभोक्ता संरक्षण विधेयक संसद ने पारित किया गया और इसमें वर्ष 1993 व 2002 संशोधनों के बाद यह एक सरल अधिनियम हो गया है। इसके अधीन आदेशों का पालन न करने पर धारा 27 के द्धारा कारावास व दण्ड तथा धारा 25 के द्धारा कुर्की किये जाने का प्रावधान है।

मनाने का उद्देश्य 
आजकल आम आदमी को भ्रमित करने और गलत तरीके से दिखाए जाने वाले झूठे विज्ञापनों के कारण व्यक्ति को ये पता नही चलता कि कौन सा - सामान खरीदना उसके लिए उचित है इसलिए दुकानदार ग्राहकों को मूर्ख बनाकर उनका शोषण करते है कभी-कभी वस्‍तुओं की कीमत के साथ – साथ उसकी क़्वालिटी उतनी अच्छी नहीं होती जितना कि उसका मूल्य है

इसी तरह कई प्रकार के धोखाधडी से ग्राहक को बचाने के लिए सरकार से द्धारा राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस प्रतिवर्ष 15 मार्च को मनाया जाता है इस दिवस को मनाने का सही कारण ग्राहक को एसी सभी प्रकार की घट्नाओं के खिलाफ सावधान करना है जिसके द्धारा उसे ठगा जा रहा है और इसीलिए भारत सरकार द्धारा मोनोपोलिस एंड रेस्ट्रिक्टिव ट्रेड प्रेक्टिसेस एक्‍ट, 1969 बनाया गया जिसे एमआरटीपी एक्‍ट कहा जाता है। इस एक्ट के अनुसार ग्राहक को अपनी शिकायत एमआरटीपी करने का अधिकार दिया गया ताकि उसके द्धारा वह उस व्‍यापारी के विरूध्‍द कार्यवाही कर सके। जिसने उसे ठगा है

मुख्य तथ्य 
  • ग्राहक को सुरक्षा का अधिकार।
  • ग्राहक को समान की जानकारी प्राप्त करने का अधिकार।
  • ग्राहक को चुनाव करने का अधिकार। 
  • ग्राहक को सुनवाई का अधिकार। 
अमेरिकी संसद द्धारा चार और अधिकार बाद में जोडे गये
  • ग्राहक शिक्षा का अधिकार। 
  • नुकसान की प्राप्ति करने का अधिकार।
  • स्वच्छ वातावरण का अधिकार।
  • ग्राहक सम्बंधि आवश्यकताएं जैसे भोजन, वस्त्र और आवास प्राप्त करने का अधिकार।
Tag - विश्‍व उपभोक्‍ता अधिकार दिवस (World Consumer Rights Day), Vish‍va Upabhok‍ta Adhikar, Divas, consumer day in india, world consumer day slogan, world consumer day date, world consumer rights day 2017, national consumer day, national consumer day speech, consumer day in hindi


Post a Comment