सम्‍पूर्ण सामान्‍य ज्ञान (प्रतियोगी परीक्षाओं के लिये ) क्लिक करें

विश्‍व वन दिवस या विश्व वानिकी दिवस  (World Forest Day) प्रतिवर्ष 21 मार्च को मनाया जाता है। यह पहली बार वर्ष 1971 ई. में  से मनाया जाता है इसको दुनिया के सभी देशों में अपनी मातृभूमि की मिट्टी और वन सम्पदा तथा देश के वनों और जंगलों का संरक्षण करने के लिए मनाया जाता है

World Forest Day

विश्‍व वन दिवस - World Forest Day

भारत में 22.7% भूमि वन और जंगल है भारत में वन महोत्सव जुलाई 1950 से मनाया जा रहा है। इसको गृहमंत्री कुलपति कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी के द्वारा शुरू किया गया था ।

विश्व वानिकी दिवस के तीन महत्वपूर्ण तत्वों - सुरक्षा, उत्पादन और वनविहार के बारे में लोगों को जानकारियां देने के लिए 21 मार्च के दिन चुना गया। वन के प्रागैतिहासिक काल से ही मनुष्‍य के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण रहा है। वन का मतलब केवल पेड़ नहीं है बल्कि पूर्ण जीवंत समुदाय है। वनों पर सारे पेड़ और जीव-जंतु निर्भर रहते हैं।

मनाने का उद्देश्य - Purpose of Celebrating

विश्व वानिकी दिवस को मनाने का उद्देश्य यह है कि विश्व के सभी देश मिलकर अपनी वन-सम्पदा की तरफ ध्यान दें और वनों को संरक्षण प्रदान करें।कई स्‍थानों पर वनों काट काट कर उन्‍हे बेचा जा रहा है मानव अपने स्‍वार्थ्‍य के लिए भूमि को बंजर बनाता जा रहा है इसलिए हम सव को मिलकर इसके खिलाफ कदम उठाने चाहिए  भारत में 657.6 लाख हेक्टेयर भूमि (22.7 %) पर वन पाए जाते हैं। वर्तमान में भारत में 19.39 % भूमि पर वनों का विस्तार है और भारत के छत्तीसगढ़ राज्य में सबसे ज्यादा वन पाये जाते है भारत सरकार द्वारा सन 1952 ई. में निर्धारित "राष्ट्रीय वन नीति" के तहत देश के 33.3 % क्षेत्र पर वन होने चाहिए थे । लेकिन ऐसा नहीं हुआ । वन-भूमि पर उद्योग-धंधों तथा मकानों का निर्माण, वनों को खेती के काम में लाना और लकड़ियों की बढती माँग के कारण वनों की अवैध कटाई आदि वनों के नष्ट होने के प्रमुख कारण है। हमें देश की "राष्ट्रीय निधि" को बचाना चाहिए और इनका संरक्षण करना चाहिए, हमें वृक्षारोपण (पेड़-पौधे लगाना) को बढ़ावा देना चाहिए। जिसके द्वारा हमारे वायु मण्‍डल का सन्‍तुलन बना रहे और हमारे वायु मण्‍डल में बढते वायु प्रदुषण को रोगा जा सके वनो की सुरक्षा के सम्बन्ध में प्रसिद्ध पर्यावरणविद (गृहमंत्री कुलपति) कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी ने कहा था कि -
"वृक्षों का अर्थ है जल, जल का अर्थ है रोटी और रोटी ही जीवन है।"

Tag - विश्‍व वन दिवस (World forest day), Vish‍vaVan Divas


Post a Comment