सम्‍पूर्ण सामान्‍य ज्ञान (प्रतियोगी परीक्षाओं के लिये ) क्लिक करें

हमारा ब्रह्माण्ड (Universe) या अंतरिक्ष अन्नत है इसका कोई अन्त नहीं है तथा इसका विस्तार लगातार हो रहा है ब्रह्माण्ड में अनेको गैलेक्सी (Galaxy) हैं जिसमें हर गैलेक्सी में अरबो – खरबों तारे हैं तथा सौरमंडल (Solar System) इत्यादि हैं यानि कि अन्तरिक्ष बहुत विशाल है हमारी पृथ्वी अन्तरिक्ष में धूल के कण के भी समान नहीं है। आइये जानते हैं अंतरिक्ष (Outer space) या ब्रह्माण्ड के बारे में महत्‍वपूर्ण रोचक तथ्‍य - Interesting Facts About the Universe in Hindi

ब्रह्माण्ड के बारे में महत्‍वपूर्ण रोचक तथ्‍य - Interesting Facts About the Universe in Hindi

ब्रह्माण्ड के बारे में महत्‍वपूर्ण रोचक तथ्‍य - Interesting Facts About the Universe in Hindi 

  • माना जाता है कि ब्रह्माण्ड का जन्म एक महाविस्फोट (Big Bang) में लगभग 14 अरब वर्ष पहले हुआ था 
  • ऐसा माना जाता है ये विशाल ब्रह्माण्ड बिग बैंग से पहले परमाणु इकाई जितना था
  • इस महाविस्फोट की ऊर्जा इतनी अधिक थी जिसके प्रभाव से आज तक ब्रह्मांड फैलता ही जा रहा है
  • ब्रह्माण्ड का कोई केन्द्र नही है, बिग बैंग के पश्चात से ब्रह्माण्ड का लगातार विस्तार हो रहा है
  • सन् 1966 में वैज्ञानिक जार्ज एवं लेंमजे नें बिग बैंग थ्योरी का सिध्दान्त दिया इसके अनुसार ब्लैक होल बनने से ब्रह्माण्ड एक परमाणु जितने छोटे आकार में आ जाते हैं। पुन धऩात्मक व ऋणात्मक बलों के असंतुलन में विस्फोट द्वारा पुन ब्रहमांड का निर्माण होता है।
  • हमारे ब्रह्माण्ड में नये तारों सृजन तथा पूराने तारों का विखण्डन अनवरत रुप से चलता है।
  • ब्रह्माण्ड में अनेको गैलेक्सी या आकाश गंगायें हैं
  • ब्रह्माण्ड में 'डार्क मैटर' (Dark Matter) और 'डार्क ऊर्जा' (Dark Energy) भी होती है।
  • ब्रह्माण्ड या अंतरिक्ष में अगर मनुष्य को छोड़ दिया जाए तो वहाँ लटता हुआ नजर आयेगा
  • ब्रह्माण्ड में ध्‍वनि तंरगे कार्य नहीं करती क्योंकि वहाँ हवा नहीं हैं तथा कोई व्यक्ति वहाँ कितनी जोर से चिल्लाने की कोशिश करें उसकी आवाज कहीं भी सुनाई नहीं देगी।
  • ब्रह्माण्ड में पँहुचकर मनुष्य को भारहीनता का अनुभव होता है क्यू कि हम जब भी किसी ग्रह पर होते हैं तो उस ग्रह के गुरुत्व के कारण हमारा वजन निर्धारित होता है जैसे हम पृथ्वी पर 60 किलो के हैं तो चन्द्रमा का गुरुत्व बल कम होने के कारण हम वहाँ केवल 10 किलो के होगें लेकिन हमारा द्रव्यमान सम्पूर्ण ब्रह्माण में नियत रहता है जिसकें आधार पर ही हमें प्रत्येक ग्रह पर अलग – अलग वजन मिलता है।
  • आज तक हम ब्रह्माण्ड के कुछ ही हिस्से को देख पाये हैं जिसमें हब्बल टेलीस्कोप ने हमारी बहुत मदद की है।
  • हमारे वैज्ञानिक नित रोज ब्रह्माण्ड के नये रहस्यो को जानने की कोशिश कर रहें है।

ब्रह्माण्ड का कैलेंडर (Cosmic Calendar)

हमारा ब्रह्माण्ड लगभग 13.8 अरब वर्ष पुराना है. अगर इस अवधि को एक वर्ष में संकुचित कर दिया जाए तब हम सभी महत्वपूर्ण घटनाओं के घटित होने के क्षण तथा अंतराल का सरलता से अनुमान लगा सकते हैं एवं ब्रह्माण्ड के घटनाक्रम को समझ सकते हैं 

ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति से लेकर वर्तमान तक की सभी प्रमुख घटनाओं की अवधी और अंतराल को समझने हेतु प्रसिद्द खगोलशास्त्री कार्ल सैगन ने ‘कॉस्मिक कैलेंडर’ (Cosmic Calendar) की परिकल्पना की और उसका उल्‍लेख्‍‍‍ा अपनी पुस्‍तक ‘द ड्रैगन्स ऑफ़ ईडन’ (The Dragons of Eden by Carl Sagan) में किया था 

कॉस्मिक कैलेंडर (Cosmic Calendar) में ब्रह्मांड की अनुमानित आयु 13.8 अरब को 1 वर्ष में संकुचित करके बनाया गया है अगर 1 वर्ष की सबसे छोटी इकाई सेकंड को भी ले लेते हैं तो 1 वर्ष में कुल 31536000 सेकंड होते हैं इस प्रकार से इस कॉस्मिक कैलेंडर का 1 सेकंड 437 वर्ष का है
  • 01 जनवरी 12:00 AM - बिग-बैंग महाविस्फोट (ब्रह्माण्ड की उत्त्पत्ति)
  • 10 फरवरी - ब्रह्माण्ड को अपना सबसे पहला अणु मिला जो था हाइड्रोजन
  • 15 मार्च - पहले सितारो की उत्त्पत्ति और आकाशगंगाओ की उत्त्पत्ति
  • 01 मई - हमारी आकाशगंगा मन्दाकिनी की उत्त्पत्ति
  • 08 सितम्बर - हमारे सूर्य की उत्त्पत्ति
  • 09 सितम्बर -  हमारे सौरमंण्‍डल की उत्त्पत्ति
  • 12 सितम्बर - हमारी पृथ्वी की उत्त्पत्ति
  • 13 सितम्बर - चंन्‍द्रमा की उत्त्पत्ति
  • 20 सितम्बर -  धरती पर वायुमंडल की उत्त्पत्ति
  • 01 अक्‍टूबर - धरती पर सबसे पहले एक कोशिकीय जीव की उत्त्पत्ति
  • 18 दिसंबर - बहु कोशिकीय जीव की उत्त्पत्ति
  • 19 दिसंबर-  पहली मछली का जन्‍म
  • 21 दिसंबर - स्थलीय पौधे और कीड़ो की उत्त्पत्ति
  • 23 दिसंबर -  पहले सरीसृप का जन्‍म (रेंगने वाले)
  • 24 दिसंबर -  डायनासोर की उत्त्पत्ति
  • 26 दिसंबर -  पहले स्तनधारी जीवोंं की उत्त्पत्ति
  • 27 दिसंबर -  पहले पक्षियों की उत्त्पत्ति
  • 28 दिसंबर -  पहले फूल वाले पौधे की उत्त्पत्ति
  • 30 दिसंबर 06:24 AM - डायनासोर का अंत
  • 31 दिसंबर 06:05 AM - बंदरों का जन्‍म 
  • 31 दिसंबर 10:24 PM -;आदिम मनुष्य का जन्‍म
  • 31 दिसंबर, 11:59:59 PM - मनुष्यों के कुल इतिहास से अब तक…


Post a Comment