सम्‍पूर्ण सामान्‍य ज्ञान (प्रतियोगी परीक्षाओं के लिये ) क्लिक करें

संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ (UNO) एक अंतरराष्‍ट्रीय संगठन है। संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ की स्‍थापना 24 अक्‍टूबर, 1945 को संयुक्‍त राष्‍ट्र अधिकार पत्र पर 50 देशों के हस्‍ताक्षर होने के साथ हुई। यह विचार द्धितीय विश्‍व युद्ध के दौरान उभरा तथा 5 राष्‍ट्रमंडल सदस्‍यों तथा 8 यूरोपीय निर्वासित सरकारों द्वारा 12 जून, 1941 को लंदन में हस्‍ताक्षरित अंरत-मैत्री उद्घोषणा में पहली बार सार्वजनिक रूप से अभिव्‍यक्‍त हुआ और इस उद्घोषणा के अंतर्गत एक स्‍वतंत्र विश्‍व के निर्माण हेतु कार्य करने का आहा्न किया गया। आईये जानते हैं संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ स्‍थापना दिवस के महत्‍वपूर्ण तथ्‍य - important facts About United Nations Organization Day 

संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ स्‍थापना दिवस के महत्‍वपूर्ण तथ्‍य - important facts About United Nations Organization Day 


संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ (UNO) अंतरराष्‍ट्रीय कानून को सुविधाजनक बनाने के सहयोग, अंतरराष्‍ट्रीय सुरक्षा, आर्थिक विकास, सामाजिक प्रगति, मानव अधिकार और विश्‍व शांति के लिए कार्यरत है। जिसके अंतर्गत लोग शांति व सुरक्षा के साथ रह सकें। संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ की स्‍थापना 24 अक्‍टूबर, 1945 को संयुक्‍त राष्‍ट्र अधिकार पत्र पर 50 देशों के हस्‍ताक्षर होने के साथ हुई। 

संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ (UNO) का विचार द्धितीय विश्‍व युद्ध के दौरान उभरा तथा 5 राष्‍ट्रमंडल सदस्‍यों तथा 8 यूरोपीय निर्वासित सरकारों द्वारा 12 जून, 1941 को लंदन में हस्‍ताक्षरित अंरत-मैत्री उद्घोषणा में पहली बार सार्वजनिक रूप से अभिव्‍यक्‍त हुआ और इस उद्घोषणा के अंतर्गत एक स्‍वतंत्र विश्‍व के निर्माण हेतु कार्य करने का आहा्न किया गया। इस घोषणा के उपरांत अटलांटिक चार्टर 14 अगस्‍त, 1941 पर हस्‍ताक्षर किये गये। इस चार्टर को संयुक्‍त राष्‍ट्र के जन्‍म का सूचक माना जाता है। इस चार्टर पर ब्रिटिश प्रधानमंत्री विंस्‍टन चर्चिल तथा अमेरिकी राष्‍ट्रपति फ्रेंकलिन डी. रूजवेल्‍ट द्वारा अटलांटिक महासागर में मौजूद एक युद्धपोत पर हस्‍ताक्षर किये गये थे। 

1 जनवरी, 1942 को वाशिंगटन में अटलांटिक चार्टर का समर्थन करने वाले 26 देशों ने संयुक्‍त राष्‍ट्र की घोषणा पर हस्‍ताक्षर किये। यहां पहली बार राष्‍ट्रपति रूजावेल्‍ट द्वारा अभिकल्पित नाम संयुक्‍त राष्‍ट्र का प्रयोग किया गया इंग्‍लैण्‍ड, चीन, सोवियत संघ तथा अमेरिका द्वारा 30 अक्‍टूबर, 1943 को सामान्‍य सुरक्षा से संबंधित मास्‍कों घोषणा पर हस्‍ताक्षर किये गये। यह घोषणा भी शांति बनाये रखने के लिए एक अंतरराष्‍ट्रीय संगठन के विचार का अनुमोदन करती थी। 

1944 में अगस्‍त से अक्‍टूबर तक सोवियत संघ, अमेरिका, चीन तथा ब्रिटेन के प्रतिनिधियों द्वारा वाशिंगटन के डम्‍बर्टन ओक्‍स एस्‍टेट में कई बैठकें आयोजित की गयीं‍ जिनका उद्देश्‍य एक शांतिरक्षक संगठन की योजना बनाना था। वे एक प्राथमिक योजना का खाका खींचने में सफल हुए। अंत में अंतरराष्‍ट्रीय संगठन से संबंधित संयुक्‍त राष्‍ट्र सम्‍मेलन में 50 देशों के प्रतिनिधि शामिल हुए। 25 अप्रैल, 1945 को सेन फ्रांसिस्‍को में आयोजित इस सम्‍मेलन को सभी सम्‍मेलनों की समाप्ति करने वाला सम्‍मेलन माना जाता है। 

26 जून, 1945 की सभी 50 देशों ने चार्टर पर हस्‍ताक्षर किये। लिखित अनुमोदनों की अपेक्षित संख्‍या अमेरिकी विदेश विभाग में जमा हो जाने के बाद 24 अक्‍टूबर, 1945 से चार्टर प्रभावी हो गया। 31 दिसंबर, 1945 तक सभी हस्‍ताक्षर देश चार्टर का अनुमोदन कर चुके थे। 24 अक्‍टूबर को प्रतिवर्ष संयुक्‍त राष्‍ट्र दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Tag - United Nations Day, facts about united nations day, facts about the united nations history, facts about the united nations general assembly, united nations facts, facts about the united nations, role of united nations, united nations facts and figures


Post a Comment