सम्‍पूर्ण सामान्‍य ज्ञान (प्रतियोगी परीक्षाओं के लिये ) क्लिक करें

ज्‍वालामुखी (Volcano) जब फटता है तो चारों ओर तबाही ला देता है ज्‍वालामुखी (Volcano) कई प्रकार के होते हैं सक्रिय ज्‍वालामुखी (Active volcano) और शांत ज्‍वालामुखी( Extinct volcano) आईये जानते हैं ज्‍वालामुखी के प्रकार उसके बारे में महत्‍वपूर्ण तथ्‍य ज्‍वालामुखी क्‍या होता है - What is volcano in Hindi

ज्‍वालामुखी क्‍या होता है - What is volcano in Hindi 


ज्‍वालामुखी भूपटल पर वह प्राकृतिक छेद या दरार है, जिससे होकर पृथ्‍वी का पिघला पदार्थ लावा, राख, भाप तथा अन्‍य गैसें बाहर निकलती हैं। बाहर हवा में उड़ा हुआ लावा शीघ्र ही ठंडा होकर छोटे ठोस टुकड़ों में बदल जाता है, जिसे सिंडर कहते हैं। उद्गार में निकलने वाली गैसों में वाष्‍प का प्रतिशत सर्वाधिक होता है। इसे पृथ्‍वी का सुरक्षा वाल्‍व भी कहा जाता है।

ज्‍वालामुखी के रूप


  1. ज्‍वालामुखी शंकु- जब सक्रिय ज्‍वालामुखी से लावा और अन्‍य पदार्थ ज्‍वालामुखी छिद्र के चारों तरफ जमा होने लगते हैं, तब ज्‍वालामुखी शंकु बनते हैं।
  2. ज्‍वालामुखी छिद्र- सक्रिय ज्‍वालामुखी पर्वत के ऊपर लगभग बीच में एक छिद्र होता है, जिसे ज्‍वालामुखी छिद्र कहते हैं।
  3. ज्‍वालामुखी नली- सक्रिय ज्‍वालामुखी छिद्र का संबंध धरातल के नीचे एक पतली नली से होता है जिसे ज्‍वालामुखी नली कहते हैं।
  4. ज्‍वालामुखी का मुख- जब सक्रिय ज्‍वालामुखी का छिद्र बड़ा होता है, तब उसे ज्‍वालामुखी का मुख कहते हैं।

सक्रिय ज्‍वालामुखी से निकलने वाले पदार्थ


  1. गैसें- ज्‍वालामुखी उद्गार में जलवाष्‍प की मात्रा सर्वाधिक होती है। अन्‍य गैसों में सल्‍फर, हाइड्रोजन और कार्बन डाइऑक्‍साइड होती है।
  2. ठोस- सक्रिय ज्‍वालामुखी द्वारा हवा में उड़ा हुआ लावा शीघ्र ही ठंडा होकर छोटे ठोस टुकड़ों में बदल जाता है, जिसे सिंडर कहते हैं।
  3. लावा- सक्रिय ज्‍वालामुखी उद्गार के समय निकलने वाले तरह पदार्थ को मैग्‍मा कहते हैं। जब मैग्‍मा धरातल पर पहुंच कर जम जाता है तो उसे लावा कहते है।
सक्रियता के आधार पर ज्‍वालामुखी को तीन भांगों में बांटा जा सकता है-
  1. सक्रिय ज्‍वालामुखी (Active volcano)- इसमें अक्‍सर उद्गार होता है और इनके मुख से हमेशा धूल, धुआं, गैसें एवं वाष्‍प आदि पदार्थ बाहर निकलते रहते हैं, उन्‍हें सक्रिय ज्‍वालामुखी कहते है। वर्तमान समय में विश्‍व में सक्रिय ज्‍वालामुखी की संख्‍या 500 है। इनमें प्रमुख है, इटली का एटना तथा स्‍ट्राम्‍बोली।
  2. प्रसुप्‍त ज्‍वालामुखी (Dormant volcano)- ऐसे ज्‍वालामुखी जिनमें निकट अतीत में उद्गार नहीं हुआ है, लेकिन इसमें कभी भी उद्गार हो सकता है प्रसुप्‍त ज्‍वालामुखी कहलाते हैं। जैसे- विसुवियस( भूमध्‍य सागर), क्राकाटोवा(सुंडा जलडमरू मध्‍य)।
  3. शांत ज्‍वालामुखी( Extinct volcano)- ऐसे ज्‍वालामुखी जिनमें ऐतिहासिक काल से कोई उद्गार नहीं हुआ है और जिनमें पुन: उद्गार होने की संभावना नहीं हो। जैसे- कोह सुल्‍तान एवं देमवन्‍द (ईरान), पोपा (म्‍यान्‍मार)।

ज्‍वालामुखी से संबंधित कुछ रोचक तथ्‍य

  • फोसा मैग्‍ना ज्‍वालामुखी पर्वतों की श्रंखला है।
  • विश्‍व का सर्वाधिक सक्रिय ज्‍वालामुखी पर्वत किलायू है।
  • विश्‍व का सबसे ऊँचा ज्‍वालामुखी पर्वत कोटापैक्‍सी (इक्‍वेडोर) है।
  • विश्‍व का सबसे ऊँचार्इ पर स्थित सक्रिय ज्‍वालामुखी ओजस डेल सालाडो एण्‍डीज पर्वतमाला में अर्जेन्‍टीना-चिली देश की सीमा पर स्थित है।


Post a Comment